भाई से थियेटर मे मस्ती 2

प्रेषक : ज्योति

हेल्लो दोस्तों मेरा नाम ज्योति है। आपने मेरी पहली स्टोरी भाई से थियेटर मे मस्ती तो पड़ी होगी। मुझे उम्मीद है की आपको बहुत पसंद आई होगी। अब मे अपनी कहानी भाई से थियेटर मे मस्ती का दूसरा भाग पेश करने जा रही हूँ।

उस दिन मोल से घर आने के बाद घर पर कोई नही था। माँ और मोसी अभी तक मार्केट से वापस नही आए थे। हम दोनो का पूरा मूड आज एक दूसरे को चोदने का था। लेकिन 15 मिनट के बाद ही मोसी और माँ आ गये। मेरा मूड बहुत खराब हो गया था।

और मे बाथरूम में जाकर अपनी चूत मे उंगलिया डालने लगी थी। जिससे की मेरी थोड़ी आग शांत हुई। फिर मे मोसी और माँ से मिली और देखा कि वो मार्केट से क्या क्या लाये। उधर सैम का भी मूड खराब था। तो मैने उससे मजाक करने लगी मे उसके पास गयी और उसके कान मे चुपके से कहा की हाथ से काम चला लो आज का राशिफल खराब है। तो वो हंसने लगा और मे वो बात कह कर साइड मे माँ के पास चली गयी और उनसे बाते करने लगी। सैम वही खड़ा था और बार बार मुझे देख कर अपने लंड की तरफ इशारा कर रहा था।

और मे भी नज़ाकत से सेक्सी स्माइल में देखी यही सिलसिला चलता ही रहा। और रात हो गयी सब एक साथ बैठ कर डिनर कर रहे थे। मे सैम के सामने डाइनिंग टेबल पर बैठी थी। मै बार बार अपने पैर सैम के पैर पर लगा रही थी मैने धीरे धीरे अपने पैर उसके लंड तक ले गई।

और उसे एक दम से खाँसी आ गयी। मैने उससे कहा की क्या हुआ सैम भाई। तो उसने कहा की कुछ नही नीचे एक चूहा तंग कर रहा है। तो मैने कहा की चूहो से बच कर रहना चाहिए। वो कही भी काट सकता है। तो सब ज़ोर ज़ोर से हंसने लगे उसके बाद सब सोने के लिए चले गये। और मे भी मायूस होकर सोने के लिए कमरे की तरफ चली गयी। घर मे लगभग सभी लोग सो गये थे। मुझे नींद नही आ रही थी। 12:30 बजे मुझे सैम का कॉल आया उसने कहा की जानू तेरे बिना मुझे नींद नही आ रही है। इस लंड को अब चैन नही मिल रहा है। तो मैने भी कहा की मेरे अंदर भी आग के दिये जल रहे है। सैम ने कहा की 1 बजे तुम मेरे कमरे पर आ जाना मे तैयार बैठा हूँ। तो मे बहुत खुश हो गयी। और में जाने के लिये तैयार हो गयी थी थोड़ी देर बाद एक बज गये।

और मे चुपके से बिना किसी को जगाए उसके रूम में चली गयी। और उसके कमरे का दरवाजा खटखटाया। और सैम ने दरवाजा खोल दिया मे अंदर गयी और उसने दरवाजा लॉक किया दरवाजा लॉक करते ही वो एक दम से मेरी तरफ बढ़ा। और भूखो प्यासो की तरह मुझे किस करने लगा।

और अपने दोनो हाथो से मेरे बूब्स को कस कस कर दबाने लगा मे भी उसका साथ दे रही थी। वो कभी उपर वाले होंठ को चूसता तो कभी नीचे वाले को। मेरा एक हाथ उसके सिर के उपर था। और दूसरे हाथ से मे उसका लंड सहला रही थी। 5 मिनट ऐसा ही चलता रहा उसके बाद सैम ने मेरा पजामा उतार दिया।

और मुझे बेड पर लिटा दिया उसने मुझे मेरे पैर पर एक किस किया जिससे मेरे पूरे तन बदन मे एक लहर दौड़ उठी। उसने मुझे दुबारा किस किया और इस बार मेरा कुर्ता नीचे उतार दिया। मैने नीचे कुछ नही पहन रखा था। और उसने मेरे बूब्स अपने मुहं मे भर लिए और चूसने लगा मुझे भी उसको अपने बूब्स चुसवा कर बहुत मज़ा आ रहा था। फिर मे भी खड़ी हुई और उसे बेड पर लिटा दिया।

और उसकी पेंट खोल दी मेरी एक फ्रेंड ने मुझे बातचीत मे बताया था। की अगर लड़के को खुश करना है। तो उसका लंड चूसो तो मैने ऐसा ही किया सैम की पेंट खोली और उसका लंबा मोटा लंड अपने मुहँ में ले लिया।

और अपने होंटो से उसको ऊपर नीचे करने लगी। सैंम की तो सिसकारीयां निकल गयी मुझे तो तीन बार चूसने के बाद मज़ा आने लगा और मे पूरे जोश मे आकर उसका लंड ज़ोर जोर से चूसने लगी। सैम आहे भर भर कर पागल हो गया। फिर सैम एक दम से उठा और उसने मुझे लिटा कर मेरी पेंटी उतार दी। अब मे उसके सामने अपने पूरे पैर खोल कर बैठी थी।

अब वो अपना मुहं धीरे से मेरी चूत की तरफ लाया और मेरी चूत पर अपनी ज़बान फेरने लगा। मुझे इतना मज़ा आज से पहले कभी नही आया वो पूरे जोश मे आकर मजे से चूत चाट रहा था। वो तो अपनी ज़बान से ही मेरी चूत को चोद रहा था। मुझे बहुत मज़ा आ रहा था।

मेरी चूत पूरी जगह से गीली हो चुकी थी। मेरी ससिकारियां निकल रही थी। उसके चूत चाटने से मेरा बुरा हाल हो रहा था। अब सैम ने मुझे अपनी तरफ खींचा और बोला जानू अब मे तेरी चूत को मेरे लंड से चोदने की शुरुवात करने वाला हूँ। प्लीज मेरे लिए थोडा दर्द सहन कर लेना तो मैने हाँ मे सर हिला दिया तो उसने अपनी दो उंगलिया मेरी चूत मे डाल दी चूत के अंदर जाते ही मेरी चीख निकल गयी आआहह सैम आराम से बहुत टाईट है।

तब उसने तीन उंगलियां मेरी चूत में डाल कर निकाल दी अब उनसे अपने लंड की दिशा मेरी चूत की तरफ करने लगा। उसने अपने लंड का आगे वाला टोपा मेरी चूत मे डाला जैसे ही उसने डाला मे तो हैरान हो गयी। फिर उसने एक ही झटके मे अपना आधा लंड मेरी चूत मे डाल दिया। मेरी तो चीख ज़ोर से निकल गयी उसने मेरे मुहं पर अपना हाथ रखा और एक झटके से अपना पूरा लंड अंदर डाल दिया। और मे दर्द के मारे मदहोश हो गयी। मुझे कुछ भी समझ मे नही आ रहा था। उसने जैसे ही अपना लंड मेरी चूत मे से बाहर निकाला उस पर खून लगा हुआ था।

लंड के निकलते ही मैने एक ज़ोर से सांस ली और मेरी जान मे जान आई सैम मुझे प्यार करने लग गया। और कपड़ा लाकर मेरी चूत और अपना लंड साफ करने लगा। थोड़ी देर बाद मे कुछ ठीक हुई सैम ने मुझसे पूछा की दुबारा शुरू करो तो मैने हाँ करके सर हिला दिया और कहा की आराम से करो अपनी चीज समझ कर।

सैम ने कहा कोई फ़िक्र नही यार तब उसने अपना लंड मेरी चूत मे दुबारा डाल दिया और धीरे धीरे उसे आगे पीछे करता रहा। मुझे अब दर्द कम महसूस हो रहा था। उसने धीरे धीरे अपनी रफ्तार बड़ानी शुरु की और चुदाई शुरू कर दी मुझे भी मज़ा आ रहा था। गरम गरम लंड मेरी चूत मे समाता जा रहा था। सैम अपनी पूरी रफ़्तार मे आगे की और झटके मार मार कर वो मुझे चोदने लगा मे भी उसका पूरा साथ दे रही थी। मे भी उछल उछल कर लंड अपनी चूत मे ले रही थी।10 मिनट चोदने के बाद उसने मुझे घोड़ी बनने को कहा मे घोड़ी बन गयी और उसने घोड़ी स्टाइल मे चूत को चोदना शुरु किया। मे तो आगे पीछे हो कर चुदवाने लगी मे तीन बार झड़ चुकी थी। तीनो बार मेरा पानी सैम ने पिया अब वो जोर जोर से मुझे चोद रहा था।

सैम झड़ने वाला था। सैम ने मुझे कहा की ज्योति मे झड़ने वाला हूँ। तो मैने कहा की मुहं मे डालना तभी मे फटाफट घोड़ी स्टाइल छोड़ कर उसका लंड अपने हाथ मे लेकर चूसने लगी। दो तीन बार चूसने के बाद मुझे महसूस हुआ की मेरे मुहं मे गरम गरम वीर्य आया है।

सैम झड़ चुका था और मैने उसका पूरा वीर्य पी लिया था। क्या बताऊ यारो क्या स्वाद था वीर्य का एकदम नमकीन था। तब हम दोनो वैसे ही पड़े रहे थोड़ी देर के बाद सैम ने कहा की मेरा दुबारा मूड कर रहा है तो उसने मुझे फिर दुबारा लिया और मेरी चूत पर लंड रखकर दुबारा चोदना शुरू कर दिया इसी तरह उसने मेरी चूत की चार बार चुदाई की मेरी चूत सूज गयी थी। मुझे सही ढंग से चला भी नही जा रहा था। चुदाई के बाद मे चार बजे अपने कमरे मे चली गयी और सो गयी। तो दोस्तो कैसे लगी मेरी स्टोरी प्लीज़ मुझे बताओ यारो ताकि मे इसी तरह स्टोरी लिखती रहूँ।

धन्यवाद …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com