bhabhi ke baad uski bahan ke saath

प्रेषक : राकेश …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम राकेश है और में दूसरी बार आपके सामने अपनी कहानी लेकर आया हूँ। दोस्तों में भाभी की खूब चुदाई करता था और वो भी मुझसे चुदना काफ़ी पसंद करती थी। उस दौरान गर्मी की छुट्टियों में भाभी की छोटी बहन रीना भाभी के घर रहने आई। एक दिन में सवेरे भाभी के घर कोई काम से बैठा था तो मैंने देखा कि एक मस्त लड़की बैठी थी। फिर मैंने भाभी से पूछा यह कौन है? तो उन्होंने कहा कि ये मेरी बहन है, छुट्टियों में रहने आई है। यह सुनकर तो मेरा सारा मूड खराब हो गया क्योंकि 2-3 दिन के बाद ही भाभी के पति कहीं टूर पर जाने वाले थे। भाभी ने मुझे बैठाया और चाय के लिए पूछा तो मैंने नाराज़ होकर मना कर दिया। फिर उतनी देर में भैया आए और बोले अब तुम्हें ही इन दोनों को संभालना है और रीना मेरी प्यारी साली है उसका तो खास ध्यान रखना और इसे कहीं घुमाने ले जाना। मैंने अपना सिर हाँ में हिला दिया।

फिर 3-4 दिन के बाद भाभी का फोन आया कि क्या हुआ तुम तो आते ही नहीं हो? नाराज़ हो क्या? तो मैंने कहा क्या यार आपने आपकी बहन को बुला लिया है तो में कैसे आ सकता हूँ? तो भाभी बोली आज शाम को घर पर आ जाओ, हम साथ में मूवी देखने जायेंगे और खाना भी खायेंगे। फिर शाम को में उनके घर गया तो वो दोनों तैयार होकर बैठी थी। भाभी की बहन तो कयामत लगती थी, बड़े-बड़े बूब्स उसकी टी-शर्ट में से बाहर आने को उतावले हो रहे थे। फिर मैंने ऐसे ही मज़ाक में कहा कि आप दोनों आज बहुत सुंदर दिख रही हो तो भाभी की बहन ने कहा कि आप शादीशुदा औरतों से फ्लर्ट करते हो। रीना के बूब्स भाभी के बूब्स से काफ़ी बड़े थे। अब में तो उसको देख रहा था और रीना जीन्स टी-शर्ट में बहुत क़यामत लग रही थी।

फिर हम लोग मूवी देखने गये और हमें ट्रेफिक की वजह से थोड़ी देर भी हो गयी थी। अब मूवी चालू हो गयी थी। अब में अंधेरे में रीना से 2-3 बार टच हो गया था। में उन दोनों के बीच में बैठा था और वो दोनों मेरे आजू बाजू बैठी थी। अब मेरा और रीना का हाथ मूवी में काफ़ी बार टच हुआ, कई बार तो मैंने जानबूझ कर उसके हाथ को टच किया। अब मूवी के बाद हम जब डिनर कर रहे थे, तब रीना बोली कि आपको मूवी में खूब मज़ा आया ना। फिर मैंने कहा कि जब इतनी खूबसूरत औरतें बाजू में हो तो मज़ा तो आयेगा ही ना। फिर रीना बोली कि तुम काफ़ी शरारती हो। मैंने कहा कि मैंने आपसे कौन सी शरारत की यार? लेकिन अगर आप शरारत का एक मौका दे तो में करने के लिए तैयार हूँ।

फिर वो खूब हंसी और अब डिनर करते समय काफ़ी बार उसका पैर मेरे पैरो से टकराया। अब मुझे थोड़ा अजीब लगा, लेकिन साथ में खुश था कि शायद मुझे यह बूब्स चूसने को मिल जाए। अब डिनर के टाईम मैंने जानबूझ कर उसके पैर पर अपना पैर रख दिया। उसने मेरे सामने देखा और चुपचाप खाना खाने लगी। अब मेरी हिम्मत और बढ़ गयी। फिर जब वो खाना खाकर वॉशरूम में जा रही थी तो उसने मेरे सामने कुछ शरारत भरी नज़रो से देखा और वॉशरूम में चली गयी। अब में भी उसके पीछे- पीछे वॉशरूम में गया और वो मुझे देखकर बोलने लगी कि तुम बाहर क्या कर रहे थे? अगर दीदी देख लेती तो। फिर मैंने उससे सॉरी कहा और फिर वो पीछे मुड़कर हाथ धोने लगी तो मैंने धीरे से उसकी गांड पर हाथ फैरा। फिर वो सीधी हो गयी और बोली कि तुम्हें शर्म नहीं आती क्या? मैंने कहा कि आपको देखकर शर्म छूट गयी है यार। रीना अचानक बोली कि क्या देखकर? तो मैंने उसके बूब्स पर इशारा किया। फिर इतनी देर में भाभी आई और बोली तुम दोनों अंदर क्या कर रहे हो? तो मैंने कहा कुछ नहीं भाभी हाथ धो रहे थे। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर दूसरे दिन में कॉलेज से आया और भाभी का फोन आया और बोली कि घर आ जाओ मुझे थोड़ा काम है और रीना घर पर अकेली है तो तुम जब तक उसको कंपनी दो। मैंने कहा ठीक है। फिर में भाभी के घर गया तो रीना ने दरवाजा खोला, वो जब टी-शर्ट और शॉर्ट पहनकर खड़ी थी। फिर मैंने कहा कि आज तो आप क़यामत लग रही हो। फिर उतने में भाभी आई और बोली कि में 20 मिनट में आ रही हूँ तुम इधर ही रहना, वो इतना कहकर निकल गयी। फिर मैंने झट से गेट बंद कर दिया और सोफे पर जा कर बैठ गया। फिर रीना आई और मेरी बाजू में बैठ गयी और बोली कि कल तुमने बहुत शरारत की। मैंने कहा कि आपको देखकर शरारत अपने आप हो जाती है। उसने कहा कि क्या देखकर? तो मैंने कहा कि आपके 36 साईज के बूब्स देखकर। उसने कहा कि कभी ऐसे देखे है। मैंने कहा कि मेरा कहा ऐसा नसीब है।

फिर उसने कहा कि कल आपने मेरी पीठ पर हाथ क्यों फेरा था? तो मैंने कहा कि अगर इतनी अच्छी और मोटी गांड सामने हो तो भला कोई कैसे काबू रख सकता है? तो वो शरमा कर बोली और मेरे में क्या अच्छा है? तो मैंने कहा कि आपके बूब्स, तो वो शरमा गई और बोली कि तुम बहुत शैतान हो। फिर मैंने कहा कि रीना एक बार दिखाओ ना। उसने कहा कि नहीं दीदी आ जायेगी। फिर मैंने बिना टाईम ख़राब किए उसकी टी-शर्ट ऊपर कर दी और ज़ोर-ज़ोर से उसके बूब्स दबाने लगा। अब में उसके बूब्स इतने ज़ोर-ज़ोर से दबा रहा था कि वो चीख रही थी। फिर उसने कहा कि इतनी जल्दी में क्यों हो? धीरे से दबाओ। अब वो मुझे रूम में ले गयी और अपनी टी-शर्ट और ब्रा उतार दी। में पहली बार अपनी लाईफ में इतने बड़े बूब्स देख रहा था। अब में अपने दोनों हाथों से पकड़कर उसके बूब्स चूस रहा था और अब में मेरा एक हाथ उसकी शॉर्ट में डालकर उसकी चूत में अपनी उंगली अन्दर बाहर कर रहा था।

अब वो सिसकियां ले रही थी सस्स्स्स्सस्स आआहह, अब वो चिल्ला रही थी। फिर वो नीचे बैठकर मेरी पेंट कि चैन खोलकर मेरे लंड को बाहर निकालकर ऐसे चूस रही थी जैसे लोग आम चूसते है। अब वो कभी मेरे लंड को अपने मुँह में रखती तो कभी बाहर निकालती। अब हम दोनों एक दूसरे को खूब चूस रहे थे। फिर अब मैंने उसके बूब्स को  चूसकर पूरा लाल कर दिया था। फिर वो बेड पर सो गयी और अपनी दोनों टाँगे फैलाकर मुझे उसके ऊपर आने का निमंत्रण दे रही थी। फिर वो बोली कि बस अब अंडर डाल दो। फिर उसने मेरा लंड पकड़कर उसकी चूत पर रख दिया और फिर मैंने एक ज़ोर से धक्का दिया तो मेरा पूरा लंड उसकी चूत में अन्दर चला गया। अब वो भी उछल उछलकर मेरा साथ दे रही थी। फिर काफ़ी देर तक हम चुदाई करते रहे। वो कभी मेरे ऊपर आती तो कभी डॉगी स्टाइल में चुदवाती। अब मेरा पानी निकलने वाला था तो मैंने उससे कहा कि कहाँ निकालूं? तो उसने कहा कि अंदर ही निकाल दो। फिर कुछ देर के बाद मैंने अपना सारा माल उसकी चूत में डाल दिया। अब वो बहुत खुश थी और मेरे सिर को चूम रही थी। फिर उतनी देर में रीना बोली कि जल्दी करो दीदी आ जायेगी। अब हमने बाथरूम में जाकर सब कुछ साफ़ कर लिया था ।।

धन्यवाद …

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com