भाई से जवानी के रसीले छेद को चुदवाया

भाई से जवानी के रसीले छेद को चुदवाया

प्रेषक : आशा …

हैल्लो दोस्तों, मेरी आदत भाई के साथ लिपटकर सोने की है और पहले तो सब ठीक था, लेकिन जब इस बार भाई घर आया, तो में पूरी बदल चुकी थी क्योंकि में किसी से अपनी चूत चुदवा चुकी थी। अब मामा ने मेरी चूत मारने के बाद मेरी चढ़ती जवानी को और निखार दिया था। में 18 साल की उम्र में ही बड़ी ही गदराई मस्त लड़की हो गयी थी, मेरा कमसिन कुँवारा बदन भर गया था और में भाई के साथ चुदाई की सोचने लगी थी। फिर में पहली रात को भाई के साथ सोई और भाई से चिपक गयी और कोशिश यही करती रही कि भाई के लंड से मेरी चूत चिपकती रहे और मेरे उभरते हुए स्तन भाई को मज़ा देते रहे। में मामा की आख़िरी चुदाई के बाद चुदवाने को बेहद तड़प रही थी, मेरी चूत बार-बार कुछ अंदर लेकर चुदना चाहती थी, मेरा मदमस्त यौवन प्यासा था इसलिए में भाई से चिपक-चिपककर उसे बहकाने लगी तो भाई भी मेरे गुदगुदे रसभरे जवान होते जिस्म का सुख भोगने लगा। अब मेरी चढ़ती मादक जवानी का असर उस पर उसी रात हो गया था और उसने भी मुझे अपने से चिपका लिया था।

अब उसका लंड एकदम कड़क था और अब में बार-बार अपनी चूत उसके लंड पर दबा-दबाकर उसके साथ बातें करते-करते सो गयी थी। उस टाइम में 12वी क्लास में थी और मेरे सीने पर उम्र की उठान साफ दिखती थी और बाकी गर्ल्स के मुक़ाबले मेरी शर्ट ज़्यादा उठी और नुकीली थी, मेरे निपल्स भी बड़े नुकीले है तो मेरी शर्ट पर सभी की नजरे रहती थी जहाँ मेरा यौवन उभरकर इतरा रहा था। में स्कर्ट छोटी पहना करती थी जिससे मेरी दूध जैसी गोरी और चिकनी-चिकनी जांघे सबका दिल धड़का देती थी। फिर अगले दिन में स्कूल से आकर लेट गयी, जब घर में कोई नहीं था। फिर मैंने एक तकिया अपने मुँह पर रखकर लेटी थी और सोचा अगर भाई आएगा तो देखूँगी क्या करता है? तो मेरा अनुमान सही निकला।

फिर भाई आया और धीरे से उसने मुझे देखा कि में गहरी नींद में हूँ या नहीं। फिर भाई ने मेरी स्कर्ट पकड़कर ऊँची कर दी और मेरी कमसिन और निखरती हुई जाँघो को देखने लगा। अब उसके हाथ मेरी चिकनी- चिकनी जाँघो को सहलाने लगे थे और मेरे उभरते यौवन के मज़े लेने लगा। अब में धीरे- धीरे उसके हाथों की गर्मी से बहकने लगी थी, इसलिए मेरी गर्म सांसो से भाई ने मुझे छोड़ दिया और बाहर चला गया। फिर उसके जाते ही मैंने अपनी शर्ट के ऊपर के चारों बटन खोल दिए और लापरवाही से लेट गयी, तो थोड़ी देर के बाद भाई फिर से आया और मेरी उठी हुई स्कर्ट से चमकती मेरी गोरी-गोरी नंगी जांघे देखने के बाद मेरी चिकनी-चिकनी जांघे फिर से सहलाने लगा और बोला कि मीनू। फिर में कुछ नहीं बोली, तो उसे लगा कि में नींद में हूँ।

फिर वो धीरे से फुसफुसाया हाए कैसी कसी हुई जांघे है मीनू? और मेरी चिकनी जांघे अपने हाथ से सहलाकर मज़े लेते हुए कहने लगा कि कितनी मस्त हो गयी है मीनू? कितना चिकना और सख़्त बदन है तेरा मीनू? काश में एक बार तेरे छोटे-छोटे सख़्त निपल्स चूसता, तेरी छोटी सी कुँवारी चूत चोदता, हाए मीनू कैसे ऊहहम्म ऊहम्म करके कसमसायेगी मेरी मीनू? तेरी चूत कितनी कसी-कसी होगी? एकदम टाईट। अब भाई की हरकतों से मेरे प्यासे बदन में आग लगा गयी थी। फिर भाई ने मेरी खुली हुई शर्ट पर ध्यान दिया तो वो समझ गया कि मैंने ही जानबूझकर शर्ट के बटन खोले है। अब उसकी हिम्मत खुल गयी थी और वो बोला कि मीनू तो में कुछ नहीं बोली। फिर उसने धीरे से मेरे उभरते हुए सीने पर अपना हाथ फैर दिया। ओह माई गॉड कितने दिनों के बाद ऐसा मज़ा आया था? और में चुपचाप नहीं रह सकी और जब भाई ने मेरे निप्पल को दबा दिया तो मेरे मुँह से श्श्श्श्सशाआ निकल ही गया।

फिर भाई ने मेरे मुँह से तकिया हटाया और बोला कि चल मीनू आज तेरी उठती जवानी को मज़ा दे दूँ, तू बड़े दिनों से किसी से चुदने की सोच रही होगी, है ना? तो मैंने भाई से लिपटकर कहा कि हाँ भाई इस जवानी की जलन अब सही नहीं जाती, भाई मुझे प्यार करो प्लीज, तो भाई ने मुझे अपनी गोदी में उठा लिया और मेरे बेडरूम में ले गया। फिर उसने मुझसे पूछा कि इतनी सेक्सी कैसे हो गयी मीनू? और अब भाई मुझे पागलों की तरह चूमने लगा था और उसे मालूम है कि मेरी जैसी कम उम्र की लड़कियों का बदन कितना मस्त होता है, तभी तो लोग स्कूल गर्ल्स को चोदने की ख्वाहिश रखते है। अब उसने मेरी स्कर्ट पूरी उतार दी थी और मेरी शर्ट भी उतार फेंकी थी। फिर मेरे सख़्त और नुकीले स्तनों को देखकर भैया से रहा नहीं गया और वो मेरे तने हुए बूब्स को चूमने चाटने लगा।

अब भाई मेरे स्तनों को अपने मुँह में पूरा भरकर चूस रहा था, क्योंकि मेरे छोटे-छोटे समोसे जैसे बूब्स उसके मुँह में पूरे समा रहे थे। अब भाई मुझे मौका नहीं दे रहा था और मेरे स्तनों को अपने हाथ में मसलता और निपल्स चूसता और फिर बोला कि हमम्म मीनू क्या निपल्स है यार तेरे? ऐसा लग रहा है कि गुलाबी आइसक्रीम हो और तेरे निपल्स जैसे आइसक्रीम पर चैरी रखी हो। फिर में बोली कि चैरी को चूसो भैया आहह बड़ा मज़ा आता है, तो भाई बोला कि किसमें मीनू? तो में बोली कि ये चैरी चुसवाने में भाई। फिर भाई बोला कि अरे रुक मीनू चूत चाटूँगा तो और मज़ा आएगा, हाए तू जब चुदेगी तब कितना मज़ा आएगा? तुझे नहीं पता मीनू। फिर मैंने पूछा कि चुदाई में और मज़ा आता है भैया? तो भाई बोला कि हाँ चुदाई में चूत में बड़ी गुदगुदी होती है और बड़ी खुजलाहट होती है मीनू, लड़कियों की चूत में खूब मस्ती होती है, अरे बदकिस्मत है वो लड़की जिसने कभी चुदवाई नहीं करवाई। फिर थोड़ी देर के बाद भाई ने मेरी मरमरी चिकनी-चिकनी जांघे चूमी। अब भाई पागलों की तरह मेरी जांघो को अपने मुँह से सहला रहा था और चूम रहा था और फिर धीरे से भाई ने मेरी पेंटी खींच दी और बोला कि हाए मीनू कैसी कच्ची कली है तू?

अब भैया मेरी बिना बालों वाली अधखिली गोरी गुलाबी चूत को देखता रह गया था। फिर भाई ने मेरी पूरी चूत अपने हाथ में थाम ली और मेरी पूरी चूत को दबा दिया और बोला कि हाए मीनू मेरी बहन क्या चीज है तू? क्या मस्त बदन है? कैसी चटकती मस्त कली है मीनू? हमम्म ससस्स हहा। फिर भाई ने मेरी अंदर की जांघे बड़े प्यार से चूमी और सहलाते हुए मेरी जाँघो को फैला दिया। फिर भैया ने मेरी कमसिन कच्ची कली की खुशबू सूँघी और बोला कि हमम्म आह वाहह मीनू कुँवारी कली की कुँवारी खुशबू, हाए मेरी बहन कितनी मस्त है? और में बाहर की लड़कियों को चोदता रहा और फिर भैया ने धीरे से मेरी फैली जाँघो के बीच में देखा जहाँ मेरी चढ़ती जवानी का रसीला छेद है। मेरी चूत की कली एकदम कसी हुई थी और दोनों फांके चिपकी हुई थी, तो भाई ने धीरे से मेरी चिपकी हुई फांको को अपनी उंगली से रगड़ दिया सस्सस्स, हहाआआआआआआआ, उई भैया, आआआआआ और फिर भैया ने मेरी नहीं सुनी और मेरी गुदगुदी चूत को चाटने, चूसने में जुट गये और मेरी नंगी चिकनी चूत की कली पर धीरे से अपनी जीभ चला दी। फिर में मस्ती में सीईई करके सिसक उठी, हाए कितने दिनों बाद कोई मेरी चूत को चाट रहा था, मैंने करीब 4-5 महीने से मेरी चूत को नहीं चटवाया था और मामा ने मेरी चूत को खूब चाटा था, लेकिन अब भाई से चटवाने में और मज़ा आ रहा था।

फिर जब भाई थोड़ी देर रुक गया, तो में बोली कि हाए भैया चूसो ना। फिर भाई ने मेरी चूत को पूरा अपनी हथेली में थाम लिया और बोला कि इतनी खुजली हो रही है मीनू? तो में बोली कि हमम्म्म हाँ भाई प्लीज चूसो ना। फिर भाई ने मेरी चूत की दोनों फांको पर अपने होंठ रख दिए और मेरी कसी हुई चूत के होठों को अपने होंठ से दबाकर बुरी तरह चूसने लगा और में तो बस कसमसाती, तड़पती, मचलती रह गयी आआहह, आअहह भैया हा, उईईइ, आहह और भाई चूस-चूसकर मेरी अधपकी जवानी का रस पीता गया और मेरी कच्ची कली का कच्चा रस उसे भा गया था। फिर वो बहुत देर तक मेरी 18 साल की छोटी सी चूत से चिपका रहा। अब में बार-बार कहने लगी थी कि छोड़ दो भैया, अब में रोने लगी थी। फिर तब उसने मुझे छोड़ा और तब तक मेरी चूत झड़ने लगी थी और अब मेरा सारा रस मेरी मुठी से बहने लगा था।

अब भाई चटकारे लेकर मेरी चूत का रसपान करने लगा था और बोला कि मीनू हमम्म मेरी जान बड़ी छोटी सी चूत है तेरी, पता है जब तू चुदेगी तो तुझे और मज़ा आएगा, पूछ क्यों? तो मैंने पूछा कि क्यों? तो वो बोला कि क्योंकि मीनू कसी हुई एकदम टाईट चूत में लंड फिट बैठता है और कस जाता है और चुदाई में बड़ा मज़ा आता है, मैंने कई बार तेरी जैसी कुँवारी कलियों की सील तोड़ी है और कच्ची उम्र में जब लड़कियाँ चुदवाती है तो उनकी चूत में बेहद कसावट होती है और वो चुदवाते हुए कसमसाती हुई चिल्लाती है तो मुझे बड़ा मज़ा आता है, आज में तेरी भी सील तोड़ दूँगा हमम्म्म।

अब भाई अपनी कुँवारी बहन की चूत का मज़ा लेना चाहता था, लेकिन भाई को नहीं पता था कि में पहले ही अपनी सील तुड़वाकर चुदवा चुकी हूँ। फिर भैया बोले कि मीनू तेरी कुँवारी चूत आज मस्ती में डूब जाएगी और फिर भैया ने अपने कपड़े उतार दिए और जब अपना लंड दिखाया, वाह्ह्ह मामा के लंड से काफ़ी बड़ा और सीधा था, मामा का लंड थोड़ा टेढ़ा था। फिर भैया ने अपना भीगा चिकना लंड मुझे दे दिया और में उसे प्यार करने लगी। अब भैया का लंड रस से पूरा चिकना हो गया था। फिर मैंने भैया के लंड को अपने मुँह में लेना चाहा, लेकिन उनका लंड मेरे छोटे से मुँह में नहीं आया। अब भाई ने अपना भीगा लंड मेरे स्तनों पर सहला दिया, तो मेरे नुकीले तने हुए निप्पल भाई के लंड से सिहर उठे सस्स्सस्स भैया। फिर भाई मेरे निप्पल को अपने लंड के चिकने रस से मसलकर सहलाता रहा और फिर उठकर मेरी जाँघो के पास गया और मेरी ठोस चिकनी जाँघो को सहलाते हुए उसने अपना लंड मेरी चूत की दरार पर फिसला दिया, जिससे में मचल गयी।

फिर मेरी चूत की कसी हुई फांको पर अपने लंड को रगड़ करके भाई ने मेरी कसी कसाई फांको को दूर किया और बोले कि क्या चीज है मीनू? हाए इतनी कसी चूत, एकदम तरो ताजा चूत है मेरी बहना की और ऐसा कहते हुए भाई ने धीरे से मेरी चूत में अपना लंड डाला।, तो में कसमसा उठी क्योंकि बड़े दिनों के बाद कुछ चूत के अंदर घुस रहा था, लेकिन में भी तो उसे डलवाने को बैचेन थी। फिर भाई ने मुझे सहलाते हुए कहा कि मीनू पहले थोड़ा सा दर्द होगा, लेकिन फिर इस चूत में खूब मज़ा आएगा। फिर भाई धीरे-धीरे करके अपना लंड मेरी चूत में डालने लगा। अब भाई अपनी छोटी बहन की चूत में अपना लंड घुसा रहा था, कितना मस्त सीन था सोचिए? एक 18 साल की स्कूल गर्ल अपने 25 साल के भाई के साथ नंगी होकर बिस्तर पर चुदाई का मज़ा ले रही थी।

फिर भैया ने मेरे होंठो को चूमा और उनका चिकना लंड मेरी चिकनी- चिकनी चूत में सरकाने लगा। अब मुझे दर्द भी होने लगा था और अभी भाई का आधा लंड बाहर था और आधा मेरी चूत के अन्दर था। अब भाई अपने आधे लंड को ही अंदर बाहर करने लगा था, ताकि मेरी चूत का रस और उनके लंड का रस गीलापन ला सके और चुदाई में आसानी हो सके। फिर भैया ने मेरे निप्पल को चूमा और चूसते हुए धीरे- धीरे अपने लंड को और अंदर घुसाने लगे। अब मेरी तकलीफ़ बढ़ती जा रही थी, लेकिन दर्द में मज़ा आता है, अब में कसमसा रही थी ऊवन्नह, ऊओन्नह, आआहह, ऊईईईईईई भैया, लेकिन वाकई में मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था और मुझे कई महीनों के बाद मेरी प्यासी चूत को कुछ मिला था, उउउन्न्ञनह भैया रुक जाओ ना दुख रहा है। फिर भाई बोला कि बस मीनू थोड़ी देर में मज़ा आना लगेगा और फिर धीरे- धीरे भाई ने अपना पूरा लंड अपनी बहन की छोटी सी चूत में घुसा दिया और सुकून से बोला कि बस मीनू अब पूरा अंदर है, अब देख चुदाई शुरू होगी।

फिर भाई ने पहले मेरे निप्पल चूसे और फिर धीरे-धीरे अपना लंड खींचकर फिर से धीरे से घुसा दिया और फिर इस तरह धीरे-धीरे अपनी प्यारी बहन को चोदने लगा आअहह, हाईईईई भैया, हाई हाई, भैया ऊऊहह अब में मज़े ले लेकर चुदवाने लगी थी। अब भाई भी मेरी टाईट चूत में अपने फिट लंड से मुझे चोदने का आनंद लेने लगा था। फिर थोड़ी देर में जब चूत और लंड रस से भीगकर चिकनेपन के कारण आसानी से घिसने लगे, तो भैया ने अपनी स्पीड भी बढ़ा दी और में भी दर्द झेलते हुए धक्के देकर चुदाई के मज़े लेने लगी। अब में भाई के साथ मिलकर खूब उछलकूद करते हुए चुदवाने लगी थी। अब भाई ज़ोर-ज़ोर से करते हुए मेरे निप्पल को भी चूस लेता था और फिर थोड़ी देर के बाद मेरी चूत में खूब तेज खुजली सी हुई और गुदगुदाहट के साथ मेरी चूत रस से भीग गयी बस-बस भैया आआ हहाआ आँहममम्मममह और फिर सब शांत हो गया।

फिर थोड़ी देर के बाद भाई ने फिर से धक्के दिए और मेरी चूत के भीतर उनका गर्म-गर्म लावा टपक पड़ा। फिर भाई ने मुझे सहलाते हुए पूछा कि मीनू ठीक है ना मेरी जान? तो मैंने कहा कि हाँ भाई। फिर भाई ने थोड़ी देर के बाद पूछा कि पहले ये बता कि तू इससे पहले किसके साथ खेली है? तो में उसे देखती रह गयी, मुझे पहले ही पता था बता दे मीनू जवानी की मस्ती में चुदाई नहीं होगी तो क्या होगा? तो मैंने उसे सब बता दिया, उसे क्या फर्क पड़ता? जब भाई अपनी बहन को चोद सकता है, तो मामा अपनी भांजी के मज़े नहीं ले सकता और फिर मेरे मामा को तो मैंने ही बहकाया था। खैर भाई के साथ अब में आज़ाद हूँ। दोस्तों आज मेरी उम्र 20 साल हो गयी है, लेकिन भाई मेरे साथ खूब खेलता है और में भैया से खूब चुदवाती हूँ, हम बारिश में भीगते हुए भी खेले है और बाथरूम के शॉवर में भी खेले है, कई बार भाई मुझे अपनी गोद में लेकर भी चोदता है और हम दोनों खूब मजे करते है ।।

धन्यवाद …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com