dost ki bahan aur mummy ki chudai

प्रेषक : राहुल …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम राहुल है और मेरी हाईट 5 फुट 10 इंच है। मेरे लंड का साईज़ 6 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है। ये कहानी मेरी और टीना और उसकी मम्मी की चुदाई की है। में एक मराठी फेमिली के घर किराए से रहता था। उस फेमिली में 4 लोग थे अंकल, आंटी, टीना और उसका भाई सौरभ। मेरी सौरभ से अच्छी दोस्ती थी। अंकल की उम्र कोई 45 साल की होगी और आंटी करीब 40 साल की होगी। सौरभ एक मार्केटिंग कंपनी में जॉब करता था और उसकी उम्र 22 साल की थी और टीना 20 साल की थी, उस वक़्त मेरी उम्र 24 साल थी।

एक दिन मुझे पता चला कि अंकल को हाई बी.पी की वजह से पैरालिसिस अटेक आया है और सौरभ उस समय शहर में नहीं था और मैंने उस फेमिली को काफ़ी सपोर्ट किया, जिससे में उस फेमिली के और करीब आ गया और टीना के भी करीब आ गया। अंकल को पैरालिसिस हो गया था इसलिए वो कुछ कर नहीं पाते थे। अब घर का खर्चा चलाना थोड़ा मुश्किल हो गया था इसलिए उन्होंने किरायेदार रखने की सोची थी। उनके घर में एक कमरा अटेच लेट बाथ था, जिसका एक दरवाजा बाहर की तरफ से था। फिर सौरभ ने मुझसे कहा कि तू ही हमारे घर पर किरायेदार बनकर रहने आ जा, इससे मेरी चिंता भी कम हो जायेगी, क्योंकि में अक्सर टूर पर बाहर रहता हूँ और तू मेरी फेमिली के लिए अजनबी भी नहीं है और किसी को कोई प्रोब्लम भी नहीं होगी। फिर मैंने हाँ कर दी और वहाँ शिफ्ट हो गया।

अब एक दिन सौरभ टूर पर था और टीना को कॉलेज जाना था तो उसके बाथरूम का नल ख़राब हो गया। तो उसने मुझसे कहा कि क्या में आपका बाथरूम इस्तेमाल कर लूँ? तो मैंने कहा ठीक है। फिर वो मेरे बाथरूम में नहाने चली गयी। उस समय उसका बाप हाई पॉवर की मेडिसिन लेकर सोया हुआ था और मम्मी शायद पड़ोस गई थी। अब मेरे मन में सेक्स जागने लगा था और टीना बहुत मस्त माल थी। हाईट 5 फिट, बूब्स साईज़ 34 और गांड तो बस पूछो ही मत। वो थोड़ी सांवली थी, लेकिन ऐसी माल थी कि किसी का भी लंड खड़ा हो जाए। अब में ये सोचकर ही एग्ज़ाइटेड था कि वो मेरा बाथरूम इस्तेमाल करने वाली है। अब जैसे ही वो मेरे बाथरूम में अन्दर गई और कुण्डी लगाई तो मैंने कमरे का दरवाजा लॉक किया और अपने लेपटॉप में ब्लू फिल्म चला दी। उस मूवी की आवाज़ इतनी थी कि वो सुन सके। अब मेरा लंड खड़ा होने लगा था।

फिर मैंने नोटीस किया कि टीना ने धीरे से दरवाज़ा खोला और वो देखने की कोशिश करने लगी कि कमरे में क्या चल रहा है? फिर मैंने अपना अंडरवेयर और सारे कपड़े निकाल दिए और टीना के नाम की मुठ मारने लगा। अब मेरी आँखे थोड़ी खुली थी और में देख रहा था कि टीना दरवाज़े के कोने से चोरी-चोरी मेरे लंड को देख रही है। फिर में दरवाज़े के पास गया तो टीना पीछे हट गयी, लेकिन वो जल्दबाजी में दरवाजा लॉक करना भूल गयी। मैंने बाथरूम का दरवाज़ा खोला और टीना को देखकर लंड हिलाने लगा। अब टीना के कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि वो क्या करे? फिर उसने अपना मुँह पीछे कर लिया, लेकिन वो कुछ नहीं बोली। अब में समझ गया कि लड़की चाहती तो है, लेकिन झिझक रही है। फिर मैंने झट से टीना को पीछे से दबोच लिया और अब मेरा लंड उसकी गांड में घुस रहा था। मेरे दोनों हाथ उसकी छाती के बूब्स को दबा रहे थे और मेरे होंठ उसकी गर्दन को चूस रहे थे, अब वो छूटने की नाकाम कोशिश कर रही थी।

फिर मैंने कहा कि टीना जब से तुझे देखा है, मैंने तुझे चोदने का मन में सोच लिया था। आज मौका मिला है और आज तू मेरी और में तेरी प्यास बुझा देते है। मेरे लंड से अपनी चूत को आबाद कर दे। फिर में उसे मोड़कर उसके होंठो को चूसने लगा और उसके बूब्स दबाने लगा। अब वो भी कसमसाने लगी और मेरा साथ देने लगी। मैंने देर ना करते हुए उसे उठाकर बिस्तर पर लेटा दिया और उसे जल्दी से नंगा कर दिया। अब दो जवान नंगे जिस्म एक दूसरे के आमने सामने थे। अब मैंने उसकी चूत चाटनी शुरू कर दी, क्या मस्त गुलाबी चूत थी? और उसकी चूत से क्या अजीब मादक खुशबू आ रही थी? फिर थोड़ी देर में उसकी चूत ने पानी छोड़ दिया। अब मैंने 69 पोज़िशन में आते हुए उसकी चूत को चाटना शुरू किया और उसके मुँह को अपने लंड से चोदने लगा।

अब हम दोनों मजे ले रहे थे और पूरा कमरा सेक्स की मदमस्त आवाज़ों से गूँज़ रहा था। फिर में टीना को सीधा लेटाकर उसके ऊपर चढ़ गया और उसकी चूत के ऊपर लंड का सुपाड़ा लगाकर उससे पूछा कि टीना रानी तेरी चूत का बाजा बजा दूँ। तो उसने कहा कि हाँ चोद दो इसको, इसमें बहुत खुजली होती है, आज इसकी सारी खुजली मिटा दो। फिर मैंने कहा जो हुकम मेरी जान और फिर मैंने उसके होंठो को अपने होंठो से दबा दिया और हाथों की हथेलियों को हाथों से और उसके पैरो को फैलाकर अपनी जांघो से दबा दिया। उसने अपनी कमर थोड़ी ऊँची करके एक जोरदार झटका दिया तो अब मेरा आधे से ज़्यादा लंड उसकी चूत में समा गया था और एक जोरदार आवाज़ उसके मुँह से निकलकर मेरे मुँह में चली गयी। फिर मैंने कुछ देर तक वैसे ही पड़ा रहना ठीक समझा और उसकी आँखो के आँसू को अपनी जीभ से चाटने लगा। कभी उसके होंठो को तो कभी उसके गालों को चूसने लगा। अब थोड़ी देर के बाद जब उसका दर्द कम हुआ तो उसने अपनी कमर उछाली और मैंने उसकी जोरदार चुदाई शुरू कर दी।

अब हम पागलों की तरह एक दूसरे को अपनी बाहों में भरकर एक दूसरे में समा रहे थे। अब हम दोनों एक साथ कमर पीछे करते और एक साथ आगे कर रहे थे। हमें उस चुदाई में बहुत मजा आ रहा था। फिर करीब 25 मिनट की चुदाई के बाद में जब झड़ने वाला था तो मैंने उससे पूछा कि में कहाँ निकालूँ? तो उसने कहा मेरे मुँह में निकालना। वो इसी बीच 2 बार झड़ चुकी थी। अब में उसके मुँह में लंड डालकर झड़ गया, फिर उसने मेरा सारा पानी पी लिया और अपने होंठो से मेरा लंड साफ कर दिया। सच कहूँ दोस्तों जो मजा एक 20 साल की लड़की को चोदने में है वो ज्यादा उम्र की औरतों में नहीं आता और जो मजा औरत देती है वो लड़की नहीं देती है। फिर उसने घड़ी देखी और कहा कि मुझे देर हो रही है तो मैंने उससे पूछा कि इससे पहले किसके साथ किया है? तो उसने कहा कि अपने बॉयफ्रेंड के साथ किया है। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर वो बाथरूम में नहाने चली गयी और मैंने टावल लपेट कर जैसे ही अपने रूम का दरवाजा खोला तो उसकी मम्मी दरवाज़े पर खड़ी थी। मेरी तो गांड ही फट गयी, आज तो गये बेटा। अब वो चेहरे से गुस्से में थी, लेकिन उसकी आँखों में हवस और गुस्सा दोनों थे। अब उन्होंने मुझे अंदर धकेलते हुए कहा कि किसके साथ अपना मुँह काला कर रहे थे? अब मेरी तो हालत और फट गयी थी जब वो बाथरूम के पास जाकर दरवाज़ा खटखटाने लगी। अब अंदर टीना की भी हवा निकल रही होगी। फिर मैंने आंटी से कहा कि आंटी बस अब रहने दो, हम इस उम्र में नहीं करेंगे तो कब करेंगे? तो उसने कहा चुपकर, अगर तू मेरे घर में रहेगा तो मेरी बेटी भी बिगड़ जायेगी। फिर मैंने अब थोड़ी हिम्मत से काम लिया और पूछा आंटी कि “बेटी भी” से मतलब, इस “भी” का मतलब क्या है? तो आंटी हड़बड़ा गयी और बोली कुछ नहीं। अब मुझे समझने में देर नहीं लगी कि आंटी भी बहुत चालू है। अब उसका पति भी बीमार रहता है तो उसे भी लंड की ज़रूरत होगी, आख़िर वो भी एक महिला है।

अब मैंने अपने टावल में छुपा लंड हटाते हुए आंटी से कहा कि आंटी इसको देखकर तो आप भी बिगड़ जाओगी। फिर जैसे ही आंटी ने मेरी तरफ देखा तो मेरा लंड ऊपर नीचे करने लगा, अब आंटी शांत होकर मेरा लंड देख रही थी और अब उसके चेहरे पर हवस का नशा था। अब मैंने देर ना करते हुए आंटी को अपनी बाहों में जकड़ लिया और कहा कि आंटी एक बार अपने अंदर ले लो तो आप अंकल को भूल जाओगी। अब वो थोड़ी हवसी हो गयी और बोली कि अंदर कौन है? तो मैंने कहा क्या फर्क पड़ता है? तो उसने कहा बता ना कौन है? में किसी को कुछ नहीं बताउंगी। तो मैंने कहा आंटी मेरी एक ख्वाइश थी कि में आपको और आपकी बेटी को एक ही बिस्तर पर रगड़कर चोदूं तो आपको कोई ऐतराज़ तो नहीं होगा। तो आंटी ने कहा नहीं मुझे भी घर में एक लंड मिल जायेगा और मेरी बेटी भी बाहर मुँह मारने से बच जायेगी, जिसका मुझे हमेशा से डर रहता है।

फिर मैंने कहा कि आंटी अंदर टीना है तो आंटी हैरान हो गयी। मैंने आंटी को पीछे से पकड़कर बाथरूम का दरवाजा लॉक किया और कहा कि टीना मेरी जान, तेरी माँ मेरी रांड बनने को तैयार हो गयी है और अब कोई ख़तरा नहीं है। अब तू दरवाज़ा खोल दे। फिर टीना ने डरते-डरते दरवाज़ा खोला तो अब वो अन्दर पूरी नंगी थी और उसकी नज़रे नीचे थी। मैंने उसकी माँ के बूब्स को मसलते हुए कहा कि सुनीता मेरी बूढ़ी रांड, इस पटाखे को क्या खाकर पैदा किया था? तो उसने कहा कोई तेरे जैसा ही था जो मुझे पसंद आ गया था, ये उसकी बेटी है। मैंने कहा कि मतलब टीना अंकल की लड़की नहीं है तो आंटी ने कहा नहीं रे वो तो नामर्द है मादरचोद, सौरभ उसके दूर के भाई का लड़का है और टीना मेरी एक दोस्त के पति की लड़की है। मैंने टीना से कहा कि तेरी माँ तो खानदानी रांड है और आज से तुम दोनों मेरी रांड हो फिर मैंने उसकी माँ को बहुत चोदा और टीना के साथ-साथ उसकी गांड भी मारी। अब ये रोज़ का सिलसिला हो गया था, अब सौरभ जब शहर से बाहर रहता तो में टीना और सुनीता की जमकर चुदाई करता था और उसके बाप को नींद की गोलियाँ दे कर सुला देते थे। अब आंटी और टीना मेरा पूरा ख्याल रखते थे।

फिर एक दिन सुनीता ने कहा कि राहुल बेटा तुम मेरी टीना से शादी कर लो। फिर तुम टीना को जब चाहो चोद सकोगे और हमारे बीच भी हमेशा संबंध बना रहेगा। तुम जब चाहों हम दोनों की चुदाई कर सकते हो। फिर मैंने कहा कि वो तो ठीक है आंटी, लेकिन रांड चोदने के लिए होती है शादी करने के लिए नहीं होती है। अब आंटी को समझ में आ गया था कि में टीना से शादी नहीं करूँगा। फिर उसने कहा ठीक है अगर तुम शादी नहीं कर सकते तो अब तुम कहीं और शिफ्ट हो जाओ। फिर में वहाँ से चला गया और उस घर में एक नया लड़का आ गया। अब में जान गया था कि अब वहाँ क्या होने वाला है? फिर कुछ महीनों के बाद मैंने टीना की उस लड़के से शादी की खबर सुनी। फिर मैंने सोचा चलो जो हुआ अच्छा हुआ ।।

धन्यवाद …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com