meri maa bani mere bacche ki maa

प्रेषक : राहुल …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम राहुल है। में अब आपको अपने और अपने परिवार के बारे में बताना चाहता हूँ। मेरे घर में मेरी माँ सुमन, जो कि 38 साल की है, वो एक बहुत ही सेक्सी औरत है और उसका फिगर साईज 38-30-34 है। में उनसे बहुत प्यार करता हूँ और मेरा एक 1 साल का बेटा भी है, अब आप सोच रहे होंगे कि मैंने अपनी वाईफ के बारे में क्यों नहीं बताया? लो अब बताता हूँ। मेरी पत्नी का नाम सुमन है, हाँ मेरी माँ जो कि मेरी धर्म पत्नी भी है और मेरे बच्चे की माँ भी है। अब तो में सीधा अपनी कहानी पर आता हूँ।

दोस्तों ये बात उन दिनों की है, जब में अपनी बी.कॉम पूरा कर चुका था और मुझे एक जॉब मिली तो में और माँ बहुत खुश थे, अब सब कुछ नॉर्मल चल रहा था। फिर एक दिन में अपने एक दोस्त के घर से ब्लू फिल्म देखकर आ रहा था। मैंने ऐसी फिल्म पहली बार देखी थी और अब मेरी आँखों के सामने उसी फिल्म के चुदाई के सीन आ रहे थे। फिर में घर पहुँचा तो मेरे घर पहुँचते ही मेरी नजर अपनी सेक्सी माँ पर पड़ी। आज में उसे माँ के रूप में नहीं एक औरत के रूप में देख रहा था। फिर मैंने सोचा कि माँ लगभग 17 साल से बिना लंड के रही है, क्यों ना आज उसे में अपना लंड दे दूँ? तो तभी आवाज़ आई राहुल खाना तैयार है, तो मेरा ध्यान टूटा और में माँ के पास खाना खाने के लिए चला गया। फिर हमने खाना खाया और कुछ देर बातें की और फिर अपने-अपने कमरो में चले गये।

फिर में लगभग आधे घंटे के बाद अपने रूम से निकला और माँ के कमरे में गया तो वो बिस्तर पर लेटी थी और मेरी माँ साड़ी में ही सोती है, वो उस सफ़ेद साड़ी में कमाल लग रही थी। फिर में उसके पास गया और उन्हें देखता रहा। फिर मैंने मन में सोचा कि अगर में जबरदस्ती आज इसको अपना बना लूँ तो मज़ा आ जाए और फिर में पागल कुत्ते की तरह माँ के ऊपर टूट पड़ा और उनके होंठो को अपने होंठो में ले लिया और चूसता रहा। अब माँ जाग चुकी थी और फिर उन्होंने मुझे अलग करके कहा कि ये क्या मजाक है? तो मैंने कहा कि माँ आज में तुम्हारी तन्हाई ख़त्म कर दूंगा। फिर वो बोली कि बकवास मत करो और अपने कमरे में जाओ। फिर मैंने कहा कि अगर आप प्यार से नहीं मानी, तो में आपके साथ जबरदस्ती करूँगा, तो वो बोली कि में कहती हूँ कि राहुल अपने कमरे में जाओ, लेकिन अब मुझ पर उस ब्लू फिल्म का जादू था तो मैंने उनको पकड़कर बिस्तर पर पटक दिया और जबरदस्ती चूमने लगा। फिर उन्होंने मुझे ज़ोर से धक्का देकर गिरा दिया और उठकर भागने लगी, तो में उठा और उनकी साड़ी पकड़कर खींच डाली।

अब उनकी साड़ी मेरे हाथों में और वो ब्लाउज और पेटीकोट में थी। फिर मैंने उन्हें पकड़ा और दो थप्पड़ उनके गोरे गालों पर जड़ दिए, तो उनके गाल लाल हो गये और वो कहने लगी कि राहुल प्लीज मुझे छोड़ दो, में तुम्हारी माँ हूँ। फिर मैंने कहा कि आज तो तुम मेरी माँ से मेरी रंडी बनेगी और फिर में जबरदस्ती उनके बूब्स दबाने लगा। दोस्तों उस रांड के बूब्स बड़े ही सख़्त थे। फिर मैंने उनको बिस्तर पर पटका और अब वो रो-रो कर विनती कर रही थी और में उन्हें चूम रहा था। फिर मैंने उनका ब्लाउज फाड़कर उनके दोनों बूब्स को आजाद कर दिया। अब वो मेरे सामने आधी नंगी थी और अब में उनके बूब्स को चूस रहा था और दबा रहा था। अब ऐसा लग रहा था कि उन्हें भी मज़ा आ रहा था, क्योंकि उनकी साँसे गर्म और तेज हो गयी थी और उनके मुँह से आवाजें भी आ रही थी। फिर मैंने उनका पेटीकोट और पेंटी भी खोल दी। अब मैंने भी अपने कपड़े खोल दिए थे और मेरा 7 इंच का लंड तन चुका था और माँ की चूत में जाने के लिए बेकरार था। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

फिर मैंने माँ के दोनों पैर खोले तो मैंने देखा कि उनकी चूत पर बड़े ही प्यारे काले बाल थे। फिर मैंने उनकी चूत सहलाई और अपने लंड पर थोड़ा थूक लगाया और कहा कि माँ आज तेरी जिंदगी में लंड और चूत का दौर फिर से शुरू हो गया है और इतना कहकर माँ की चूत के ऊपर अपना लंड रखा और एक ज़ोरदार धक्का मारा तो मेरा आधा लंड माँ की चूत में समा गया और वो चीख पड़ी। फिर मैंने कहा कि क्या हुआ रंडी दर्द हो रहा है? तो मैंने एक और धक्का मारकर अपना पूरा लंड माँ की चूत में उतार दिया। अब मुझे बहुत ही मज़ा आ रहा था और वो दर्द से चीख रही थी। फिर मैंने उनके बूब्स चूसने शुरू किए और देखा तो थोड़ी देर के बाद वो भी अपनी कमर हिला-हिलाकर मेरा सहयोग कर रही थी। अब मुझे पता चल गया था कि अब उसे भी मज़ा आ रहा है और अब उसका दर्द भी कम हो गया था।

फिर मैंने धक्के मारने शुरू किए और उसे चूमना भी जारी रखा। फिर 5 मिनट के बाद उसने मुझे ज़ोर से पकड़ा और मुझे अपने लंड पर कुछ पानी गिरता महसूस हुआ और वो ढीली पड़ गयी, तो में समझ गया कि वो झड़ चुकी है, लेकिन में तो अभी शुरू ही हुआ था और अब में लगातार अपने धक्के लगा रहा था और माँ को चोद रहा था। फिर लगभग 20 मिनट के बाद मैंने भी अपना सारा पानी माँ की चूत में ही छोड़ दिया और उनसे चिपककर सो गया। फिर सुबह जब में उठा तो मैंने देखा कि माँ पास में बैठी रो रही थी। फिर मैंने कहा कि माँ क्यों रो रही हो? ये तो अब हर रात होगा, क्योंकि अब तुम मेरी नाजायज पत्नी और मेरी रखेल बन चुकी हो। अब में तुम्हें चोदे बिना कभी नहीं सोऊंगा और अब से मेरा सारा सामान आपके कमरे में ही रहेगा, क्योंकि अब में भी इसी कमरे में ही रहूँगा और तुम्हारे साथ सोऊंगा और इतना कहकर मैंने माँ को फिर से एक बार और चोद डाला। अब ये सिलसिला रोज का हो गया था। फिर लगभग 45 दिनों के बाद जब से में माँ को चोद रहा था, तो माँ ने कहा कि आज में तुम्हें एक बात बताना चाहती हूँ।

फिर मैंने कहा कि क्या सुमन बोलो? तो वो बोली कि में तुम्हारी माँ तो थी लेकिन अब में तुम्हारे बच्चे की और बनने वाली हूँ। फिर मैंने कहा कि सच तो उन्होंने कहा कि हाँ और वो बोली कि कल मुझे डॉक्टर के पास ले जाना, ताकि में इसे गिरा दूँ। तो मैंने कहा कि क्यों? तो वो बोली कि लोग क्या कहेंगे? तो मैंने कहा कि मुझे दिल्ली में एक कंपनी में नौकरी मिली है, तो क्यों ना आप मुझसे शादी कर ले? में आपसे बहुत प्यार करूँगा और वादा करता हूँ कि एक अच्छा बेटा तो नहीं, लेकिन पति और पिता जरूर बनूँगा, आप मेरा बच्चा पैदा करें और मुझे अपना पति बना लें। दोस्तों फिर यही हुआ और आज मेरी माँ मेरे बच्चे की भी माँ बन चुकी है ।।

धन्यवाद …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com