sagi bhabhi ki gili choot

प्रेषक : शोभित …

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम शोभित है  और में एक नॉर्मल इंडियन लड़का हूँ और मेरे लंड का साईज 7 इंच है। ये बात एक हफ्ते पुरानी है जो कि मेरी भाभी के बारे में है, उनका नाम कविता है। जब वो कहीं जाती है तो वो ज्यादातर सलवार सूट पहनती है, लेकिन घर में वो ज्यादातर नाइटी में रहती है। में शादीशुदा हूँ और मेरी शादी को 10 महीने हो चुके है। मेरी सेक्स लाईफ बहुत ही मस्त चल रही है, मुझे चूत चाटना बहुत पसंद है और मेरी पत्नी को भी बहुत अच्छा लगता है। मेरे बड़े भैया की शादी को 4 साल हो गये है, उनके एक लड़का है जो ज्यादातर मेरे ही रूम में रहता है, लेकिन मेरे भैया बहुत शराब पीते है जिस वजह से सब परेशान रहते है। वो प्रॉपर्टी डीलर है तो आप समझ ही सकते है कि उनका सर्किल कैसा होगा? मेरी भाभी भैया की इस आदत से बहुत परेशान रहती है, क्योंकि वो रोज़ पीकर घर आते है और सीधा सो जाते है और सेक्स भी नहीं करते है। यह बात मुझे मेरी पत्नी ने कई बार बताई है, क्योंकि भाभी रोज़ उससे कहती थी कि तुम्हारी लाईट तो 2 बजे के बाद ही बंद होती है और एक मेरे पति है जो कि लाईट जलाते ही नहीं है।

एक दिन की बात है, मेरे सारे घरवाले कहीं काम से गये हुए थे, लेकिन में तो जॉब करता हूँ और इस वजह से में नहीं गया, लेकिन मेरी पत्नी घरवालों के साथ चली गई थी और भाभी उनके लड़के छोटू की तबीयत खराब होने की वजह से नहीं गई थी। मुझे पता था कि आज घर पर कोई नहीं है, तो में उस दिन 2 बियर पीकर घर गया और एक बियर रात को पीने के लिए साथ ले गया, लेकिन मुझे क्या पता था कि घर पर कोई है और मुझे नशा भी होने लग गया था। फिर में 9 बजे घर पहुंचा तो दरवाजा खुला हुआ था, मुझे शक हुआ कि घर पर कोई है, फिर में जैसे ही अंदर घुसा तो भाभी के कमरे की लाईट चालू थी, फिर में उनके रूम के पास गया तो अंदर से करहाने की आवाज़ आ रही थी।

फिर मैंने दरवाजे के होल से देखा तो भाभी ज़मीन पर अपना पैर पकड़कर रो रही थी और उस समय उन्होंने नाइटी पहन रखी थी और वो घुटनों तक कर रखी थी। इतने में तो सेक्स की इच्छा बढ़ जाती है, अब मेरा लंड धीरे-धीरे हरकत करने लगा था। फिर मैंने सीधा दरवाजा खोला तो भाभी से मेरी नज़र मिली। फिर मैंने उनसे पूछा कि क्या हुआ? तो उन्होंने कहा कि मेरा पैर फिसल गया और शायद मौच आ गई है। फिर मैंने उन्हें उठाकर बेड पर लेटा दिया और कहा कि में कोई मलहम लेकर आता हूँ, अब में उनकी सेक्सी टांगे देखकर वैसे ही पागल हो गया था। फिर में रूम से बाहर आया और वो बियर पी ली जो में लाया था और अपने रूम से दर्द रिलीफ जेल और गर्म पट्टी ले गया। दोस्तों ये कहानी आप चोदन डॉट कॉम पर पड़ रहे है।

अब भाभी बेड पर ही लेटी हुई थी और फिर मैंने उनसे पूछा कि मोच कहाँ आई है? तो उन्होंने सीधा पैर आगे कर दिया। फिर में उनके पास गया और उनसे कहा कि थोड़ी नाइटी ऊपर कर दो तो में जेल लगा दूँ। फिर उन्होंने झट से अपनी नाइटी को घुटनों तक कर लिया और उल्टे पैर को मोड़ लिया। अब मुझे तो उनकी काले कलर की पेंटी दिख गई थी और में फिर से पागल हो गया। अब मेरा लंड अंदर बहुत टाईट हो रहा था। फिर मैंने सब भूलकर उनके पैर पर मलहम लगाया तो वो दर्द से करहा रही थी। फिर मैंने कहा कि सब ठीक हो जायेगा। फिर उन्होंने मुझसे कहा कि कौन-कौन सा दर्द ठीक होगा? मुझे कुछ समझ नहीं आया तो मैंने भाभी से पूछा कि और कहीं भी दर्द है क्या? तो उन्होंने कहा कि रहने दे। फिर मेरे थोड़ा जोर देने पर उन्होंने बताया कि उन्हें पीठ में भी दर्द हो रहा है, तो मैंने कहा कि में वहाँ भी दवाई लगा देता हूँ। फिर वो थोड़ा सोचने लगी और बोली कि चल लगा ही दे।

फिर मैंने भी टाईम ख़राब ना करते हुए कहा कि पीछे से चैन खोल लूँ, तो वो कुछ नहीं बोली और मैंने खुद ही चैन को नीचे कर दिया। अब जैसे ही मैंने दवाई लगानी शुरू की तो उनकी ब्रा की स्ट्रेप दिक्कत कर रही थी। फिर मैंने बिना उनसे पूछे ही उनकी ब्रा खोल दी, तो उन्होंने कुछ नहीं कहा। अब में दवाई भी लगा रहा था और सेक्सी तरीके से उनकी पीठ भी मसल रहा था, शायद उन्हें यह सब अच्छा लग रहा था। फिर मैंने दवाई लगाकर उनकी नाइटी बंद कर दी और कहा कि अब में अपने रूम में हूँ अगर कुछ ज़रूरत हो तो आवाज़ लगा देना। फिर में अपने रूम में आ गया और थोड़ी देर बाद में सोने ही लगा था कि भाभी मेरे रूम में आ गई। उस समय में अपने कपड़े चेंज करके पजामा और बनियान पहन चुका था। फिर मैंने उनसे कहा कि क्या हुआ भाभी? कुछ चाहिए था तो आवाज़ लगा देती। फिर भाभी ने कहा कि मुझे आज थोडा डर लग रहा है और तुझे कोई परेशानी नहीं हो तो क्या में आज रात यहीं पर सो जाऊं? तो मैंने भी कह दिया कि ठीक है। फिर वो छोटू को लेकर मेरे कमरे में आ गई और बेड पर ही लेट गई और छोटू को हमारे बीच में लेटा दिया।

अब मेरा तो बुरा हाल हो रहा था, उनकी सेक्सी पीठ और टाँगो के बारे में सोचकर मुझे नींद भी नहीं आ रही थी। फिर भाग्य ने मेरा साथ दिया और आधे घंटे के बाद छोटू रोने लगा तो मैंने सीधा खड़े होकर लाईट जला दी और भाभी ने छोटू को अपनी गोद में उठा लिया और कुछ सोचने लगी, लेकिन छोटू बहुत रो रहा था तो मैंने उनसे पूछा कि क्या हुआ? तो उन्होंने कहा कि इसे दूध पिलाना पड़ेगा। फिर में बाहर जाने लगा तो उन्होंने मुझे रोक लिया और कहा कि रात बहुत हो गई है तुम सो जाओ। फिर में वहीं पर लेट गया। अब मैंने देखा तो भाभी ने अपनी मोटी चूची नाइटी से बाहर निकालकर छोटू के मुँह में डाल दी थी और अब में तिरछी नज़रो से उन्हें देख रहा था। फिर उन्होंने मुझे देख लिया और पूछा कि क्या हुआ देवर जी नींद नहीं आ रही है? तो मैंने कहा भाभी मुझे लाईट में सोने की आदत नहीं है।

फिर उन्होंने झट से कहा कि मुझे पता है रात को 2 बजे के बाद ही आपके रूम की लाईट बंद होती है, तो में कुछ बोल नहीं पाया। फिर उन्होंने चुप्पी तोड़ते हुए कहा कि कोई बात नहीं, ऐसा ही होता है। फिर मैंने भी पूछा कि आप भी रात को 2 बजे तक सोती हो, तो उन्होंने छोटू की तरफ इशारा किया। अब मुझसे उनकी चूची देखकर रहा नहीं जा रहा था, तो मैंने कहा कि इसके पापा नहीं उठाते क्या? फिर उनका मूड ऑफ हो गया और वो बोली कि वो तो रोज़ शराब पीकर आते है और 2 झटके मारकर सो जाते है। अब उनके मुँह से ऐसी बात सुनकर में तो चौंक गया और फिर वो बोली कि तुम अपनी लाईफ सही से इन्जॉय कर रहे हो और रोने लगी। अब छोटू सो चुका था तो उन्होंने उसे साईड में लेटाकर अपनी नाइटी सेट कर ली। अब में उनके पास गया और कहा कि आप भाई को समझाया करो। फिर वो रोते हुए बोली कि मैंने उन्हें कई बार समझाया है, लेकिन वो नहीं मानते है। फिर मैंने मौके का फ़ायदा उठाया और बोला कि क्या में आपकी कुछ मदद करूँ? तो वो फिर मेरे कंधे पर सिर रखकर रोने लगी।

फिर मैंने उन्हें चुप कराया, तो वो बोली कि तुम बहुत अच्छे हो और तुम्हारी पत्नी बहुत भाग्यशाली है। तो मैंने पूछा कैसे? तो वो बोली कि तुम दोनों तो रोज़ रात को करते हो, उसने मुझे बताया था। फिर में एकदम से बोला कि आप भी तो रोज़ कर सकती हो, तो वो बोली कि तेरे भैया को शराब से फुर्सत हो तब तो करें। फिर मैंने भी भाभी से कह दिया कि में हूँ ना, फिर जब हमारी नज़रे मिली तो उनकी आँखों में एक अजीब सी चमक जाग गई थी और फिर वो बोली कि में उसके लिए कुछ भी करने को तैयार हूँ। फिर हमारी किस शुरू हो गई और अब में नाइटी के ऊपर से उनकी चूचीयाँ दबा रहा था और वो मेरे शॉर्ट्स के ऊपर से मेरा लंड दबा रही थी। अब मैंने उनकी नाइटी उतार दी और उनकी चूचीयों को मुँह में भर लिया और निप्पल चूसने लगा। अब उनकी चूचीयों में से दूध आ रहा था और वो तड़प रही थी और चिल्ला रही थी कि शोभित और ज़ोर से चूसो। फिर मैंने 10 मिनट तक उनकी चूचीयाँ चूसी और फिर में खड़ा हो गया। अब उन्होंने अपनी नाइटी पूरी उतार दी और मैंने देखा कि उन्होंने पेंटी नहीं पहनी है।

फिर मैंने उनसे पूछा कि आपने तो पेंटी पहनी हुई थी, तो वो बोली कि रात को सोने से पहले उतार देती हूँ। फिर उन्होंने एक ही झटके में मेरी शॉर्ट्स उतार दी, अब मेरा लंड झट से उनके मुँह के आगे आ गया था और वो मेरे लंड को निहार रही थी। फिर 2 मिनट तक मेरे लंड से खेलने के बाद उन्होंने उसे मुँह में डाल लिया। अब तो में पागल ही हो गया था, क्योंकि मेरी पत्नी मेरा लंड नहीं चूसती थी। फिर कुछ देर तक उन्होंने उसे चूसा और अब मेरी बारी आई। फिर में जैसे ही उनकी चूत के पास अपना मुँह लेकर गया तो मुझे वहां से बहुत अच्छी खुशबू आ रही थी, उनकी एकदम गुलाबी चूत थी। फिर मैंने उनकी चूत के दाने को चूसना शुरू कर दिया और अब तो वो पागल हो रही थी और कह रही थी कि शोभित मुझे तेरा लंड दे दे, मुझसे रहा नहीं जा रहा है, में इस दिन के लिए बहुत तड़पी हूँ।

अब में फिर से खड़ा हुआ और मेरे लंड को उनकी चूत पर टिका दिया और सीधा झटका मारकर चूत में अंदर घुसा दिया। अब उनकी आँखों से आँसू आ गये और वो चिल्ला पड़ी, मार दिया रे। फिर मैंने धीरे धीरे से उनकी चुदाई शुरू कर दी और झटकों की स्पीड बढ़ा दी। फिर करीब 15 मिनट के बाद भाभी का बदन टाईट होने लगा तो में समझ गया कि वो झड़ने वाली है। फिर मैंने अपनी स्पीड और तेज़ कर दी और 2 मिनट के बाद भाभी और में एक साथ छूट गये। अब वो बहुत खुश थी और में 5 मिनट तक उनके ऊपर ही लेटा रहा। फिर में उनसे अलग हुआ और हम नंगे ही सो गये ।।

धन्यवाद …

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Facebook Auto Publish Powered By : XYZScripts.com